ताजा खबर
इंदौर के पश्चिम बायपास को अहमदाबाद हाइवे से जोड़ने की तैयारी   ||    आरएनटी से एमवाय जाने वाले मार्ग चौड़ीकरण के लिए दीवार तोडी   ||    23 लाख इंदौरियों को लगना है बूस्टर डोज…आज से महाअभियान   ||    राजबाड़ा से गोपाल मंदिर और पीपली बाजार तक बनेगी नई सडक़   ||    जापानी सेंडविच पैनल तकनीक से बन रहे आम आदमी के मकान   ||    नजर आने लगा इंदौरी मेट्रो का स्वरूप   ||    नाबालिग से प्रेम विवाह, एक घंटे में दूल्हा पहुंचा जेल   ||    15 तरह के पुलिस वेरिफिकेशन होंगे ऑनलाइन एक माह में शुरू होगी सुविधा   ||    वॉइस ऑफ इंदौर की खबर से जागा नगर निगम, पलसीकर कॉलोनी में ड्रेनेज लाईन का तुरंत कराया काम   ||    इंदौर की पलसीकर कॉलोनी में ड्रेनेज लाईन चोक होने से स्थानिक परेशान,नही सुन रहे नगर निगम के अधिकारी   ||   

नजर आने लगा इंदौरी मेट्रो का स्वरूप

Posted On:Wednesday, August 3, 2022

इंदौर। एक साल बाद मेट्रो प्रोजेक्ट (Metro Project) के पहले चरण के तहत सुपर कॉरिडोर (Super Corridor) से एमआर-10 (MR-10) होते हुए बापट चौराहा (Bapat Chauraha) और रिंग रोड (Ring Road) तक मेट्रो (Metro) की पहली ट्रेन (Train) चलाने का सपना देखा जा रहा है। फिलहाल रात-दिन मेट्रो प्रोजेक्ट में तेज गति से काम चल रहा है और अब उसका एक हिस्सा आकार लेता भी नजर आ रहा है। एमआर-10 पर पिलरों के बीच सेगमेंट जोडऩे का जो काम चल रहा है उसमें एक हिस्सा तैयार होकर इस तरह नजर आ रहा है। 33.53 किलोमीटर का ट्रैक पहले चरण में तैयार किया जा रहा है।
एयरपोर्ट (Airport) से लेकर सुपर कॉरिडोर होते हुए एमआर-10 और वहां से बापट चौराहा के बाद होटल सायाजी, रेडिसन से रोबोट चौराहा तक पिलरों के निर्माण के साथ ही सेगमेंट लॉन्चिंग चल रही है। अब इसके बाद ट्रैक यानी पटरियों को बिछाने का काम शुरू किया जाएगा। मेट्रो प्रोजेक्ट से जुड़े सभी बड़े टेंडरों की भी मंजूरी लगातार जारी है। कल सुपर कॉरिडोर पर ड्रीलिंग रिग मशीन कीचड़ में फिसलने से पलट भी गई। हालांकि बेरिकेट्स लगे होने के कारण कोई दुर्घटना नहीं हुई। मगर अब एहतियात और बढ़ाई जा रही है। विशालकाय मशीनों, क्रेनों के साथ मेट्रो प्रोजेक्ट का काम चल रहा है। दो निर्माण एजेंसियां इस कार्य में जुटी हैं। दिलीप बिल्डकॉन के अलावा आरवीएनएल को ठेका सौंपा गया है। अभी सुपर कॉरिडोर और रेडिसन चौराहा पर मेट्रो स्टेशन का काम भी शुरू किया गया और इसके लिए भी पिलरों का निर्माण किया जा रहा है। इलेक्टीफिकेशन सहित 75 एकड़ में बन रहे विशाल डिपो का काम भी शुरू हो गया है। इंदौर-भोपाल के लिए 156 कोच खरीदे भी जा रहे हैं, जो पहले चरण में इस्तेमाल किए जाएंगे।


इंदौर, देश और दुनियाँ की ताजा ख़बरे हमारे Facebook पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें,
और Telegram चैनल पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Copyright © 2022  |  All Rights Reserved.

Powered By Newsify Network Pvt. Ltd.