ताजा खबर
इंदौर के पश्चिम बायपास को अहमदाबाद हाइवे से जोड़ने की तैयारी   ||    आरएनटी से एमवाय जाने वाले मार्ग चौड़ीकरण के लिए दीवार तोडी   ||    23 लाख इंदौरियों को लगना है बूस्टर डोज…आज से महाअभियान   ||    राजबाड़ा से गोपाल मंदिर और पीपली बाजार तक बनेगी नई सडक़   ||    जापानी सेंडविच पैनल तकनीक से बन रहे आम आदमी के मकान   ||    नजर आने लगा इंदौरी मेट्रो का स्वरूप   ||    नाबालिग से प्रेम विवाह, एक घंटे में दूल्हा पहुंचा जेल   ||    15 तरह के पुलिस वेरिफिकेशन होंगे ऑनलाइन एक माह में शुरू होगी सुविधा   ||    वॉइस ऑफ इंदौर की खबर से जागा नगर निगम, पलसीकर कॉलोनी में ड्रेनेज लाईन का तुरंत कराया काम   ||    इंदौर की पलसीकर कॉलोनी में ड्रेनेज लाईन चोक होने से स्थानिक परेशान,नही सुन रहे नगर निगम के अधिकारी   ||   

यूक्रेन में बिना बिजली के रह रहे एक करोड़ लोग, जानिए पूरा मामला

Posted On:Tuesday, November 22, 2022

मुंबई, 22 नवम्बर, (न्यूज़ हेल्पलाइन)। रूस के खिलाफ जंग के बीच यूक्रेन के लाखों लोग इस साल कड़कड़ाती ठंड की चुनौती का भी सामना करेंगे। 271 दिनों से चल रहे युद्ध के बीच WHO ने एक चेतावनी जारी की है। इसमें बताया है कि यूक्रेन में चल रही एनर्जी क्राइसिस के कारण यहां ठंड से लाखों लोगों की जान का खतरा है। दरअसल, हाल ही के हफ्तों में रूस ने यूक्रेन के कई ऊर्जा केंद्रों को तबाह कर दिया है। जिसके चलते वहां घरों में बिजली और एनर्जी के दूसरे संसाधानों की भारी कमी हो चुकी है। यूक्रेन युद्ध में लगातार तबाह हो रहे ऊर्जा केंद्रो के चलते लोगों में तनाव बढ़ रहा है। लोग बिजली कटौती से परेशान हैं। WHO के मुताबिक सर्दियों में यूक्रेन के लोगों को कई तरह के इंफेक्शनस का खतरा हो सकता है, जो अस्पतालों की कमी के कारण औऱ गंभीर हो जाएगा। कोरोना के चलते निमोनिया और सांस से जुड़ी गंभरी बीमारियां विकराल रूप ले सकती हैं। एक आंकड़े में दावा किया गया है कि रूस ने फरवरी से लेकर अब तक यूक्रेन के 100 से ज्यादा स्वास्थ्य केंद्र तबाह किए हैं। जिससे लोगों को स्वास्थ्य संबंधी सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के रीजनल डायरेक्टर हैन्स हेनरी क्लयूग ने बताया कि यूक्रेन के आधे से ज्यादा ऊर्जा केंद्रों को गहरा नुकसान पहुंचा है। वहीं कुछ पूरी तरह से तबाह हो गए हैं। इससे लोगों की हेल्थ पर गहरा असर पड़ रहा है। साथ ही कीव में एक प्रेस कांफ्रेंस में क्लयूग ने यह भी बताया कि फिलहाल कीव में एक करोड़ लोग बिना बिजली के रहने को मजबूर हैं, जबकि 30 लाख लोग ठंड से बचने के लिए अपना घर छोड़ सकते हैं। यूक्रेन में ठंड जानलेवा हो सकती है। एक अनुमान के मुताबिक इस साल वहां के कई इलाकों का तापमान -20 डिग्री से भी कम जा सकता है। इससे बिना बिजली के निपटना नामुमकिन है।


इंदौर, देश और दुनियाँ की ताजा ख़बरे हमारे Facebook पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें,
और Telegram चैनल पर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Copyright © 2022  |  All Rights Reserved.

Powered By Newsify Network Pvt. Ltd.